कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन लगवा चुकी मां का दूध है शिशु का ‘सुरक्षा कवच’

[ad_1]

Corona Virus : कोरोना महामारी से बचने के लिए कई देश अपने नागरिकों को ज्यादा वैक्सीन लगाने में जुटे हैं, वहीं कई देशों ने 12 से 17 साल तक के बच्चों को भी वैक्सीनेशन की अनुमति दे दी है लेकिन मां का दूध पीने वाले बच्चों के लिए अभी वैक्सीन के ‘सुरक्षा कवच’ का प्रावधान नहीं है. ऐसे में दुनियाभर के डॉक्टरों और वैज्ञानिकों के सामने ये एक चुनौती जैसा था कि छोटे बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए क्या किया जाए? आपको बता दें कि कुछ महीने पहले तक तो गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं तक को वैक्सीन लगवाने की अनुमति नहीं थी लेकिन फिर उन्हें भी वैक्सीन लगवाने की इजाजत दे दी गई.

हाल ही में हुई एक रिसर्च में दावा किया गया है कि जो महिलाएं स्तनपान (Breast Feeding) कराती हैं और वो वैक्सीन ले चुकी हैं, तो उनका दूध भी कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी बनाता है. इस रिसर्च को ‘ब्रेस्टफीडिंग मेडिसिन’ (Breastfeeding Medicine) नामक पत्रिका में प्रकाशित किया गया है. इसके साथ ही सलाह दी गई है कि वैक्सीन ले चुकी मां अपने बच्चे को एंटीबॉडी दे सकती हैं.

मां के दूध में मौजूद वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी

शोधकर्ताओं को पता चला है कि जब बच्चों का जन्म होता है तब उनका इम्यून विकसित होने की प्रक्रिया में रहता है. फ्लोरिडा यूनिवर्सिटी (Florida University) के सहायक प्रोफेसर जोसेफ लार्किन के अनुसार इस रिसर्च में कहा गया है कि ‘हमें पता चला है कि वैक्सीनेशन से ब्रेस्ट मिल्क में SARS-CoV-2 के खिलाफ एंटीबॉडी बनती है.’

शोधकर्ताओं ने नोट किया कि जब बच्चे पैदा होते हैं, तो उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली (Immune System) अविकसित होती है, जिससे उनके लिए अपने आप संक्रमण से लड़ना मुश्किल हो जाता है. उन्होंने कहा कि कुछ प्रकार के टीकों के लिए पर्याप्त प्रतिक्रिया देने के लिए वे अक्सर बहुत छोटे होते हैं. शोधकर्ताओं का कहना है, “इस कमजोर अवधि के दौरान, स्तनपान कराने वाली माताओं को शिशुओं को ‘एंटीबॉडी’ प्रदान करने की अनुमति मिलती है.”

ये भी पढ़े  कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और घातक क्यों है? रिसर्च में हुआ खुलासा

यह भी पढ़ें- Periods Myths: क्या आप भी मानती हैं पीरियड्स से जुड़े ये 5 मिथ? जानें सच्चाई

मां का दूध इम्यूनिटी के लिए जरूरी

इस स्टडी के को-ऑथर जोसेफ नू ने कहा कि उन्हें किसी भी तरह के इन्फेक्शन से लड़ने में मुश्किल होती है. बच्चों के विकास के इस अहम समय में ब्रेस्ट मिल्क उन्हें बेहतरीन इम्यूनिटी देता है. जोसेफ ने कहा कि ‘ब्रेस्ट मिल्क उस टूलबॉक्स की तरह होता है जो नवजात को जिंदगी के लिए अलग-अलग जरुरी टूल्स बनाने में मदद करता है. वैक्सीन लेने के बाद इस टूलबॉक्स में एक और अहम टूल जुड़ जाता है. जो कि कोविड-19 से बचाव के लिए बेहद जरुरी है. ‘

दिसबंर 2020 से मार्च 2021 के बीच की गई इस रिसर्च में शोधकर्ताओं ने स्तनपान कराने वाली ऐसी 21 हेल्थवर्कर्स को शामिल किया था, जो कभी कोरोना से संक्रमित नहीं हुई थीं. रिसर्च के मुताबिक वैक्सीन देने से पहले उनके ब्रेस्ट मिल्क और खून के सैंपल तीन बार जांच के लिए गए थे.

यह भी पढ़ें- प्रीमेच्योर बर्थ का पता अब बहुत पहले लगाया जा सकेगा, नई स्टडी में हुआ खुलासा

रिसर्च में कहा गया है कि महिलाओं को कोरोना वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज देने के बाद पाया गया कि उनके ब्लड और यहां तक कि ब्रेस्ट मिल्क में भी एंटीबॉडीज विकसित हुए हैं और ये एंटीबॉडीज वैक्सीन से पहले लिए गए नमूनों से कई गुना ज्यादा थे. इसके अलावा रिसर्च में यह भी दावा किया गया है कि वैक्सीन लेने वाली ऐसी माताओँ के दूध में भी एंटीबॉडी का लेवल ज्यादा था जो कोरोना से संक्रमित होकर ठीक हो चुकी थीं.

ये भी पढ़े  कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और घातक क्यों है? रिसर्च में हुआ खुलासा

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

[ad_2]
Source link

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरों की अपडेट Whats app ग्रुप और Telegram ग्रुप पर पाए, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी का अलर्ट हमारे, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

Deepak Bharti

मैं दीपक भारती thetadkanews.com हिन्दी News वेब पोर्टल का Founder हूं, BA और MA in Mass Communication की पढ़ाई के बाद मैने साल 2008 में पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा। मैने शुरूआती दिनों में सांध्य दैनिक News Today, Agniban, Akshar Vishwa, Dainik Swadesh में रिपोर्टर और वर्तमान में Dainik Dabang Dunia में सनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहा हूं। मैने पत्रकारिता को एक मिशन के रूप में लिया है। बदलती दुनिया पत्रकारिता भी डिजिटल स्वरूप में आ गई हैं। मेरा यह प्रयास रहता है कि खबर जैसी है वैसी ही उसके पाठकों तक पहुंचना चाहिए। ताकि वह उसके हर पहलू को समझ सकें।
Back to top button
मृदुल मधोक यूट्यूब कैसे कमा रहे करोड़ो FASTag वालों के लिए खास खबर, अभी देखें सड़क पर दौड़ेगी jawa 350 bike, यह है कीमत मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन में गाये राम भजन

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.