उज्जैन तड़काभैंकर

मावा व्यापारी ने लगाई फांसी, लॉकडाउन में आ गई थी आर्थिक तंगी

गीता कॉलोनी स्थित घर के बरामदे में की आत्महत्या परिजनों

उज्जैन। कर्ज से परेशान शहर के एक मावा व्यापारी ने बुधवार को गीता कॉलोनी स्थित अपने घर के बरामदे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजनों के अनुसार लॉकडाउन के दौरान व्यापार में काफी कर्ज हो चुका था। बैंक सहित अन्य लोगों को भी लाखों की उधारी चुकानी थी। जिसके चलते व्यापारी तनाव में था।

शहर के ढाबा रोड स्थित सुशील कुमार शंकरलाल मावा फर्म के संचालक सुशील कुमार 65 साल में बुधवार सुबह गीता कॉलोनी स्थित अपने घर के बरामदे में रस्सी का फंदा बनाकर फांसी लगा ली। परिजनों ने जब उन्हें फंदे पर लटका हुआ देखा तो पुलिस को सूचना दी। जानकारी मिलते ही मौके पर जीवाजी गंज थाना पुलिस पहुंची और जांच की। जांच अधिकारी एसआई रामनाथ भारती बताया कि लॉकडाउन के दौरान मावे का कारोबार पूरी तरह से बंद था। संभवत इस दौरान आई आर्थिक तंगी के चलते मावा व्यापारी ने आत्महत्या की है। हालांकि मर्ग कायम का मामले को जांच में लिया गया है।

देनदारी को लेकर थे तनाव में

मावा व्यापारी के पुत्र अनमोल कुमार गुप्ता ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान 3 महीने की अवधि में व्यापार पूरी तरह से बंद रहा था। जिसके चलते आर्थिक तंगी आ गई थी। वही बैंक सहित कई लोगों का कर्ज भी चुकाना था। इसी बात को लेकर पिताजी सुनील कुमार हमेशा तनाव में रहते थे। वह हमेशा ही कहते थे कि लोगों को रुपए देना है कर्ज लौट आना है। संभवत इसी तनाव के चलते उन्होंने यह कदम उठाया है।

लॉकडाउन कई व्यापारियों को हुआ भारी नुकसान

गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए संपूर्ण भारत में ढाई से 3 महीने का लॉकडाउन लगाया गया था। इस अवधि में सभी के कारोबार व्यापार पूर्ण रुप से बंद थे। जिसके चलते कई व्यापारी और दुकानदारों को लाखों रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है। वही लॉकडाउन के पहले जिन लोगों ने अपना नया व्यापार शुरू किया था। वह भी आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं।

अभी भी पटरी पर नहीं व्यापार

गौरतलब है कि 1 जून से अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। नियमों के साथ लोगों को घर से बाहर निकलने की छूट और व्यापार का समय तय किया गया था। शहर में सभी दुकानों और प्रतिष्ठानों को नियमों के अनुसार खोलने का समय भी तय था। कलेक्टर के आदेश के बाद बुधवार से शहर को पूरी तरह से अनलॉक कर दिया गया। हालांकि अभी भी व्यापार पूरी तरह से पटरी पर नहीं आया है। यही कारण है कि व्यापारियों को आर्थिक तंगी और कर्ज के चलते परेशानी उठाना पड़ रही है।

यह भी पढे…

झाबुआ में युवक-युवती को घेरकर युवकों ने लाठी डंडों से पीटा, Video Viral…

Bhopal : पड़ोसियों के झगड़े में 7 महीने की बच्ची की डंडे से पीटकर हत्या, आरोपी गिरफ्तार 

खरगोन : जब नदी के उफान में घिरे गए युवकों की ज़िंदगी के पड़े लाले, अंधेरे में ऐसे किया रेस्क्यू

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close