उज्जैन तड़काभैंकर

विकास दुबे सरेंडर के कई सवाल रह गए अनसुलझे…

-पत्रकारवार्ता में एसपी ने कहा फूल-प्रसाद वाले ने पहचाना था दूबे को

उज्जैन।

कानपुर में डीएसपी सहित 8 पुलिस अधिकारियों की हत्या में शामिल कुख्यात बदमाश विकास दुबे गुरूवार को उज्जैन पुलिस की गिरफ्त में आ गया। उसकी गिरफ्तारी को लेकर कई ऐसे सवाल थे जिनकी जवाब अभी भी अनसुलझे है। पुलिस की माने तो एक फूल प्रसाद की दुकान चलाने वाले दुकानदार ने बदमाश को पहचान लिया और मंदिर के सुरक्षाकर्मियों को सूचना दे दी। इसके बाद सुरक्षाकर्मियों की सूचना पर पुलिस ने दुबे को धरदबोचा।
पुलिस अधीक्षक मनोजसिंह ने बताया कि गुरूवार सुबह पौने आठ बजे विकास दुबे महाकाल मंदिर के बाहर हार-फूल प्रसाद की दुकान पर पहुंचा था। उसने दुकानदार सुरेश माली से महाकाल मंदिर में जाने का रास्ता भी पूछा था। इस दौरान दुकानदार को उस पर शंका हो गई थी। उसने सुरक्षाकर्मियों को इसकी जानकारी दे दी थी। विकास दुबे ने जैसे ही निर्गम द्वारा के समीप जाकर विशेष दर्शन का पास खरीदा इसके बाद वह अंदर जाने लगा। मुख्य द्वारा पर ही कर्मचारियों ने उसे पूछताछ के लिए ले जाया गया। जहां उसने अपने आईडी दिखाए। शंका होने पर कर्मचारियों ने महाकाल चौकी पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस आई और विकास को हिरासत में लेकर चौकी पहुंची। इसी दौरान महाकाल पुलिस भी आ गई और दुबे की सच्चाई सामने आते ही उसे दबोच लिया गया। पुलिस जब दुबे को थाने ले जा रही थी तब वह जोर-जोर से चिल्ला रहा था। में कानपुर का विकास दुबे हूं। इसकी कुछ ही देर बाद एसपी मनोजसिंह और एएसपी रूपेश कुमार द्विवेदी सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और दुबे को अज्ञात स्थान पर ले जाया गया। उज्जैन पुलिस ने तुरंत इसकी सूचना यूपी एसटीएफ को दी। शाम को पुलिस ने उसे न्यायालय में पेश किया। जहां से यूपी एसटीएफ की टीम उसे अपने साथ ले गई।

ये भी पढ़े  सीएम Dr. Mohan Yadav का बड़ा बयान, उज्‍जैन से तय हुआ था नरेन्‍द्र मोदी बनेंगे देश के PM

हिरासत में लिया शराब कंपनी के मैनेजर को

पुलिस सुत्रों का दावा है कि पूछताछत में जानकारी मिली की विकास दुबे का शराब कंपनी के मैनेजर तिवारी से संपर्क है। जिसके बाद पुलिस की टीम ने तिवारी और उसके परिवार के कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। इस संबंध में पुलिस अधिकारियों का कहना है कि तिवारी की भूमिका संदिग्ध है। इस संबंध में पूछताछ की जा रही है।

पुलिस के सामने चिल्लाता रहा दुबे

महाकाल चौकी से जब दुबे को पुलिसकर्मियों द्वारा पकड़कर थाने पर ले जाया जा रहा था, तब वह जोर-जोर से चिल्ला रहा था। में विकास दुबे हूं कानपुर वाला। कई बार शोर मचाने पर एक जवान ने उसे थप्पड़ मारकर शांत कर दिया। बताया जा रहा है कि वह अपनी पहचान जानबुझकर सब के सामने बता रहा था। ताकि वह पुलिस के एन्काउंटर से बच सके।

गफलत में पकड़ाए वकील

विकास दुबे के महाकाल मंदिर में पकड़ने की सूचना के बाद शहर में सनसनी फैल गई। अधिकारियों को फोन बजने लगे। इसी दौरान पुलिस ने संभावना के आधार पर उसके अन्य साथियों की तलाश में शहर में नाकेबंदी कर दी। इसी दौरान पुलिस को देवास गेट से उत्तर प्रदेश की कार लावारिस हालत में मिली। बताया जा रहा है कि उक्त कार में दो वकील बैठे हुए थे। जिन्हें पुलिस ने हिरासत में लिया है। जिनका नाम तेजबहादुरसिंह और मनोज कुमार यादव बताए उन्होंने पुलिस को बताया कि वे उज्जैन में महाकाल दर्शन करने के लिए उज्जैन आए थे।

बीडीएस पहुंची जांच के लिए

महाकाल मंदिर से विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मंदिर में सनसनी फैल गई थी। सूचना मिलते ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। पुलिस ने स्टैंड से उसकी चप्पल और एक काले रंग का बैग भी जब्त किया था। जिसकी जांच के लिए बीडीएस टीम भी पहुंच गई थी। पुलिस को जांच में बैग में केवल कपड़े मिले है। पुलिस ने बताया कि उसके पास मोबाइल नहीं था।

ये भी पढ़े  एफओबी से पकड़ाया बैंक में चोरी करने वाला आरोपी
यह भी पढ़े…

Kanpur Shootout: पहले दिल्ली, फिर जयपुर और कोटा होते हुए ऐसे उज्जैन तक पहुंचा था विकास दुबे, जानें पूरी कहानी

कानपुर शूटआउट: विकास दुबे की गिरफ्तारी पर कांग्रेस ने उठाए सवाल, कहा- ‘पूरा घटनाक्रम संदिग्ध, उसके चेहरे पर भय नहीं था’

जानिए विकास दुबे से पहले UP के और कौन से अपराधी मध्य प्रदेश से हुए गिरफ्तार

गैंगस्टर विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद क्या होगी आगे की कानूनी प्रक्रिया

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरों की अपडेट Whats app ग्रुप और Telegram ग्रुप पर पाए, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी का अलर्ट हमारे, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

Deepak Bharti

मैं दीपक भारती thetadkanews.com हिन्दी News वेब पोर्टल का Founder हूं, BA और MA in Mass Communication की पढ़ाई के बाद मैने साल 2008 में पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा। मैने शुरूआती दिनों में सांध्य दैनिक News Today, Agniban, Akshar Vishwa, Dainik Swadesh में रिपोर्टर और वर्तमान में Dainik Dabang Dunia में सनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहा हूं। मैने पत्रकारिता को एक मिशन के रूप में लिया है। बदलती दुनिया पत्रकारिता भी डिजिटल स्वरूप में आ गई हैं। मेरा यह प्रयास रहता है कि खबर जैसी है वैसी ही उसके पाठकों तक पहुंचना चाहिए। ताकि वह उसके हर पहलू को समझ सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
मृदुल मधोक यूट्यूब कैसे कमा रहे करोड़ो FASTag वालों के लिए खास खबर, अभी देखें सड़क पर दौड़ेगी jawa 350 bike, यह है कीमत मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन में गाये राम भजन

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.