उज्जैन तड़काभैंकर

दर्दनाक- उज्जैन में जहरीली शराब से 7 लोगों की मौत

-सुबह से देर शाम तक मरते रहे लोग, आबकारी विभाग और पुलिस की लापरवाही

उज्जैन। Wed-14 Oct 2020

शहर में तीन थाना क्षेत्रों में बुधवार सुबह से लेकर देर शाम तक 7 लोगों की संदिग्ध हालत में मौत हो गई। मरने वालों में कुछ मजदूर है तो कुछ भिक्षावृति करने वाले बताया जा रहा है कि सभी की मौत का कारण जहरीली शराब बताया जा रहा है। हालांकि पुलिस का कहना है कि जब तक पीएम रिपोर्ट नहीं आ जाती तब-तक कुछ नहीं किया जा सकता। मरने वालों की सूचना सबसे पहले छत्रीचौक सराय से आई। इसके बाद तेलीवाड़ा चौराहे और दोपहर में अस्पताल में एक अन्य ने दम तोड़ दिया। इसके बाद देर शाम को छत्रीचौक पानी की टंकी के सामने अन्य तीन लोगों की लाश मिली।

छत्रीचौक सराय पर बुधवार सुबह नागदा निवासी विजय ऊर्फ कृष्णा पिता मंगलभाटी 45 साल और शंकरलाल पिता नवल 42 साल निवासी पिपलौदा बागला के शव पड़े मिले। इसी प्रकार तेलीवाड़ा के समीप गौशाला के ओटले पर दिनेश पिता मगनलाल 45 साल निवासी विष्णु कॉलोनी अंकपात मार्ग ने दम तोड़ दिया। ऐसे ही बेगमबाग निवासी पीरूशाह पिता युसूफ 40 साल को परिजन दोपहर 2.30 बजे तबियत बिगड़ने पर जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया। पीरूशाह के रिश्तेदार सराफत ने बताया कि मुहं से झाग निकलने पर उसे गंभीर हालत में अस्पताल लेकर पहुंचे थे। जहां उसने अंतिम सांस ली। देर शाम को टंकी चौराहा स्थित पार्किंग के सामने से ब्रदी भेरूलाल 65 साल और बल्लू पिता टीकाराम 40 साल निवासी चंद्रशेखर आजाद मार्ग की लाश पींजारवाड़ी और एक अज्ञात की लाश मिली।

अमाशय में शराब मिली

चारों शवों का पीएम जिला अस्पताल के डॉ.जितेंद्र शर्मा ने किया। डॉ.जितेंद्र शर्मा के अनुसार चारों शवों के पेट मेंं शराब पाई गई है। जिसकी जानकारी उन्होनें संबंधित थाना पुलिस को दे दी है। एएसपी रूपेश द्विवेदी ने बताया चारों मौतों को सामान्य घटना करार देते हुए बताया कि चारों शवों का विसरा जब्त किया गया है। इन्हें जांच के लिए सागर लैब पहुंचाया जाएगा। दो मृतक सुबह तक घूमते पाए गए थे। मामले की जांच की जा रही है।

20 रुपए में मिल रही मौत की पोटली

लंबे समय से जहरीली शराब पीने से मजदूर वर्ग के लोग जान गंवा रहे है। लेकिन इक्का-दुक्का मौत होने की वजह से और मामला मजदूर वर्ग से जुड़ृा होने की वजह से प्रकाश में नहीं आ पाता है। करीब पांच वर्ष पहले भी जहरीली शराब झिंझर ने एक दिन में आधा दर्जन मजदूरों की जान ली थी। हकीकत ये है कि ये जहरीली शराब मजदूर वर्ग में एक ब्रांड के तौर पर जानी जाती है। झिंझर नामक ये शराब कम रूपए में ज्यादा नशा देने के लिए मशहूर है। मात्र 20 रूपए में ही झिंझर शराब की पोटली आसानी से मजदूर और भिक्षावृति करने वालों को मिल जाती है।

यहा मिलती है झिंझर

महाकाल, खाराकुआ, जीवाजीगंज और कोतवाली थाना क्षेत्रों में ये शराब खुलेआम बिक रही है। पुलिस की मिलीभगत से लंबे समय से मौत का ये कारोबार फलफूल रहा है। खाराकुआ क्षेत्र में स्थित दरगाह होटल की गली, पुराना तांगा स्टैंड, जूना सोमवारिया, कहारवाड़ी में बड़ी मात्रा में झिंझर बनाई और बेची जाती है। टकसाली हनुमान के पास यूनुस, गुड्डू, गब्बर और सिकंदर सहित अन्य लोग गांजा, कच्ची शराब और नाईट्रोवेट की गालियां उपलब्ध करवाते है। इसके अलावा गौंड बस्ती मल्टी में भी आसानी से मिल जाती है।

पान की दूकान पर भी उपलब्ध

स्प्रीट को पानी में निश्चित मात्रा में मिलाकर झिंझर बनाई जाती है, कम लागत में अधिक लाभ के चक्कर में कई लोग चोरी छिपे स्प्रीट खरीदकर लाते और उसे पाउच के रूप में 20-20 रुपये में लोगों को बेचते हैं। झिंझर पीने के बाद लोगों को शराब की तरह नशा होता है। छत्रीचौक स्थित एक पान की दूकान पर सुबह से शाम तक झिझर की पोटली बेची जाती है। कई बार पान की दूकान पर अवैध कारोबार को लेकर मारपीट और जानलेवा हमले तक हो चुके है। बावजुद इसके पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

यह भी पढे…

MP उपचुनाव: मंत्री मोहन यादव बोले- BJP वाले घर से खींचकर जमीन में गाड़ने की रखते हैं हिम्मत

पीयूष भाई आप ऐसे तो न थे…सोशल मीडिया पर जता रहे दूख

पत्नी के प्रेमी का हत्यारा ओमकारेश्वर में बेच रहा था अगरबत्ती

Ujjain-ढांचा भवन के समीप युवती के गले से झपटी सोने की चेन

अब रावण दहन भी होगा ऑनलाइन, घर बैठे देखना होगा प्रसारण

मेडिकल संचालक ने शिप्रा नदी में कूदकर की आत्महत्या

Ujjain- महिला को घर में घुसकर चाकू मारे, वीडियों देखें…

जमानत कराने आए युवक की मौत, पुलिस पर लगे मारपीट के आरोप

कोट मोहल्ला से पकड़ाया IPL का सट्टा, लाखों का हिसाब मिला

इस्कॉन मंदिर के पीछे वृद्ध की हत्या, बेटे को मारने आए थे आरोपी

रास्ते से निकलने के विवाद में सगे भाई की हत्या

Ujjain-बेकाबू सांड ने वृद्ध को मार डाला, 4 को किया घायल

Tags

Related Articles

Back to top button
Close