उज्जैन तड़का

केसीसी पलटी के नाम पर किसानों के साथ धोखाधड़ी

-केसीसी सरकार की योजना को पलिता लगाते सेवा सहकारी संस्था के अधिकारी और कर्मचारी

  • बाले-बाले किसानों के खातों से निकाल रहे है राशि, जांच हो तो खुलेगा बड़ा मामला

सरकार द्वारा किसानों की उन्नति के लिए बनाई गई योजना का किस तरह से दुरुपयोग हो रहा है। अगर यह देखना है तो उज्जैन जिले की ग्राम रलायता हैबत की सेवा सहकारी संस्था में हो रही धोखाधड़ी से जाना जा सकता है। किसानों के नाम पर सहकारी संस्था के अधिकारी और कर्मचारी जमकर चांदी काट रहे है। किसानों द्वारा शिकायत किए जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। यहीं कारण है कि किसान को कार्रवाई के लिए थानों में शिकायत करनी पड़ रही है।

किसान क्रेडिट कार्ड केसीसी खाते पलटी के नाम पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की शाखाओं में किसानों के साथ धोखाधड़ी का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। किसान तक जब जानकारी पहुचती है तब तक सहकारी संस्थाओं के प्रबंधक और कर्मचारी मामले को तत्काल दबा देते है। लेकिन इस बार पीडितों ने थाने में सहकारी संस्था के अधिकारी और कर्मचारी की थाने में शिकायत की है। उक्त मामले की पुलिस द्वारा जांच की जा रही है। इसके बाद संबंधितों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़े…उज्जैन में रेलवे क्रॉसिंग पर डिलीवरी, नहीं आई 108 एम्बुलेंस

केसीसी दरसल ताजा मामला जिला सहकारी बैंक घोंसला शाखा के तहत आने वाली रलायता हैबत सेवा सहकारी संस्था का सामने आया है। आरोप है कि यहां पर दो किसानों के बचत खातों से संस्था के कर्मचारी दुलालाल ने 5-5 हजार रुपए निकाल लिए। आश्चर्यजनक बात तो यह है कि किसानों की बैंक पासबुक में कर्मचारी द्वारा रुपए निकाले जाने की इंट्री भी दर्ज है। हालांकि यह मामला साल 2019 का है। लेकिन सूत्रों का दावा है कि किसानों के साथ इस प्रकार की धोखाधड़ी अभी भी जारी है। जानकारों का कहना है कि अगर सभी केसीसी खातों का भौतिक सत्यापन किया जाए तो मामला लाखों रुपए की धोखाधड़ी का सामने आ सकता है। लेकिन इस बार धोखाधड़ी के शिकार हुए किसानों ने राघवी थाने में एक शिकायती आवेदन दिया है।

ये भी पढ़े  गुंडागर्दी पर चला पुलिस का हथौड़ा, दो दिन में तीन मकान तोड़े

यह भी पढ़े…

केसीसी पलटी के नाम पर किसानों के साथ धोखाधड़ी

ऐसे समझे मामला…

गौरतलब है कि किसान क्रेडिट कार्ड योजना केसीसी की शुरूआत किसानों की आर्थिक स्थित को सुधारने और कृषि को व्यापार में परिवर्तन के लिए की गई थी। लेकिन सेवा सहकारी संस्थाओं के पदाधिकारियों ने इसे अपने हितों का साधने और अपनी तिजारी भरने का काम शुरू कर दिया। जिसका परिणाम यह हुआ की किसान आज भी आर्थिक रूप से कमजोर ही है। संस्था प्रबंधक और कर्मचारी केसीसी खातों की पलटी के दौरान लाखों रुपए की हेराफेरी कर देते है। केसीसी खाता धारक किसान की पलटी 10 हजार रुपए की है तो उसके खाते में इससे अधिक राशि सेवा सहकारी संस्थाओं में जमा कर दी जाती है। जबकि शेष राशि को किसान की बिना अनुमति के बाले-बाले विड्रॉल फार्म भरकर निकाल ली जाती है। कई बार से संस्थाओं के कर्मचारी और प्रबंधक किसानों से कोरे विड्रॉल वाउचर पर हस्ताक्षर या फिर अंगूठा लगवाकर अपने पास रख लेते है।

यह भी पढ़े… 

मजबूरी का उठाते है फायदा

गौरतलब है कि सहाकारी संस्था के माध्यम से किसानों को केसीसी का लाभ दिया जाता है। लेकिन अधिकांश किसान आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होने के कारण संस्था के कर्मचारी और प्रबंधक इसका फायदा उठाते है। साल में दो बार केसीसी पलटी होने पर अपना हित साधते है। आरोप है कि पलटी के दौरान ही सेवा सहाकारी संस्था के कर्मचारी और प्रबंधक धोखाधड़ी को अंजाम देते है। किसानों के खाते में रुपए डालकर कुछ ही घंटों में वापस रुपए निकाल लिए जाते है। जिसकी जानकारी किसानों को भी नहीं रहती है।

ये भी पढ़े  जियो मार्ट का सुपरवाइजर निकला लाखों की चोरी का मास्टर माइंड । Supervisor of Jio Mart turns out to be the master mind of theft of lakhs

केसीसी पलटी के नाम पर किसानों के साथ धोखाधड़ी

पुलिस ने की थी कार्रवाई

घट्टिया की जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में हुए 79 लाख रुपये के गबन के मामले में पुलिस ने 21 सितंबर को तीन शाखा प्रबंधकों, एक पर्यवेक्षक सहित आठ लोगों के खिलाफ धारा 420 सहित आठ धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। घट्टिया स्थित जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के शाखा प्रबंधक महेंद्र जाटवा ने लाखों रुपये गबन के मामले में शिकायत की थी। जाटवा का आरोप था कि बैंक में 20 माह के दौरान 17 फर्जी खाते खोले गए थे। इन खातों में अन्य मद की राशि ट्रांसफर की गई थी। जमा की गई रकम को अलग-अलग तारीख को निकाला गया है। गबन का मामला सामने आने के बाद केंद्रीय बैंक प्रबंधन ने जांच कमेटी का गठन किया गया था। इसमें पाया गया था कि बैंक के तीन ब्रांच मैनेजर शिव हरदेनिया और महेशचंद्र राठौर और अर्जुनसिंह भूमिका भी इसमें है।

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर, जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरें, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी अलर्ट, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरों की अपडेट Whats app ग्रुप और Telegram ग्रुप पर पाए, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी का अलर्ट हमारे, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

Deepak Bharti

मैं दीपक भारती thetadkanews.com हिन्दी News वेब पोर्टल का Founder हूं, BA और MA in Mass Communication की पढ़ाई के बाद मैने साल 2008 में पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा। मैने शुरूआती दिनों में सांध्य दैनिक News Today, Agniban, Akshar Vishwa, Dainik Swadesh में रिपोर्टर और वर्तमान में Dainik Dabang Dunia में सनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहा हूं। मैने पत्रकारिता को एक मिशन के रूप में लिया है। बदलती दुनिया पत्रकारिता भी डिजिटल स्वरूप में आ गई हैं। मेरा यह प्रयास रहता है कि खबर जैसी है वैसी ही उसके पाठकों तक पहुंचना चाहिए। ताकि वह उसके हर पहलू को समझ सकें।
Back to top button
मृदुल मधोक यूट्यूब कैसे कमा रहे करोड़ो FASTag वालों के लिए खास खबर, अभी देखें सड़क पर दौड़ेगी jawa 350 bike, यह है कीमत मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन में गाये राम भजन

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.