उज्जैन तड़का

10 दिनों की होगी गुप्त नवरात्रि, दश महाविद्या साधना का श्रेष्ठकाल

घटस्थापना पर पंचग्रही युति, नवरात्रि सरस्वती की आराधना के लिए विशेष है

उज्जैन। Wed-11 Feb 2021

गुप्त नवरात्रि का प्रारंभ आज से हो रहा है। 12 से 21 फरवरी दस दिनों की गुप्त नवरात्रि दश महाविद्या साधना का श्रेष्ठ काल है। 13 फरवरी को गुरु उदय होंगे तो 14 फरवरी को शुक्र अस्त होगा। षष्ठी तिथि की वृद्धि, मकर व कुम्भ के सूर्य में होगी। प्रारम्भ में शनि की कृपा भी बरसेगी।

आचार्य पं. रामचंद्र शर्मा वैदिक ने बताया कि वर्ष में कुल चार नवरात्र होते है। इनमें चैत्र व आश्विन के नवरात्र उजागर होते है, जिनकी सर्वत्र मान्यता है। वहीं दो नवरात्र आषाढ़ व माघ माह में आते है, जिन्हें गुप्त नवरात्र के नाम से जाना जाता है। दोनो गुप्त नवरात्र यन्त्र, तंत्र व मंत्र सिद्धि के लिए जानी जाती है। आचार्य शर्मा बताया कि इस वर्ष माघ शुक्ल प्रतिपदा 12 फरवरी शुक्रवार से गुप्त नवरात्र आरम्भ हो रहे है,जो दस दिनों के है। गुप्त नवरात्रि का समापन 21 फरवरी रविवार को होगा। धनिष्ठा नक्षत्र,परिघ योग व किंस्तुघ्न करण में प्रारम्भ हो रहे है। गुप्त नवरात्र पर कुम्भ राशि का चन्द्रमा, मकर राशि का सूर्य व मकर के गुरु में घटस्थापना होगी। घटस्थापना के दिन शनि, गुरु, सूर्य, शुक्र व गुरु की पंचग्रही युति भी रहेगी। वंही सूर्य सुबह शनि की राशि में गोचर करेंगे तो रात्रि 9:11 पर राशि परिवर्तन कर शनि की ही कुम्भ राशि मे प्रवेश करेंगे।

आत्महत्या-चादर का फंदा बनाकर फांसी पर लटकी

शुभ योग होगा

माघ माह की नवरात्र सरस्वती आराधना के लिए विशेष है। 16 फरवरी को सरस्वती जयंती वसन्त पंचमी है। माँ सरस्वती की साधना का पर्व श्री पंचमी को अहर्निश शुभ योग निर्मित हो रहा है, जिससे यह पर्व विद्या अध्ययन के लिए खास बना हुआ है। इस वर्ष माघी गुप्त नवरात्र नौ के बजाय 10 दिनों की होने के साथ ही नवदुर्गा के साथ दश महाविद्या की कृपा प्राप्त होगी। 17 व 18 फरवरी दोनों दिन षष्ठी तिथि रहेगी।

ये भी पढ़े  अज्ञात वाहन ने सास और दामाद को रौंदा, उन्हेल रोड पर हादसा

ऑनलाइन ट्रेडिंग करते हुए दिमाग में आया धोखाधड़ी का आईडिया

14 फरवरी से शुक्र अस्त

13 फरवरी को देवराज गुरु पूर्व में उदित होंगे तो 14 फरवरी को शुक्र अस्त होंगे। 16 फरवरी वसन्त पंचमी को इस वर्ष विवाह नही हो सकेंगे। हालांकि वसन्त पंचमी अबूझ मुहूर्त की श्रेणी में आता है, किंतु इस वर्ष पंचमी को शुक्र का तारा अस्त होने से विवाह आदि मंगल कार्य नही हो सकेंगे। किन्तु अबूझ संज्ञक मुहूर्त होने से अनेक समाज में सामूहिक विवाह किए जाएंगे।

खाद्य विभाग का छापा-1500 किलों मसाले जब्त

होती है सिद्धि प्राप्त

आचार्य शर्मा ने बताया कि माघी गुप्त नवरात्र सरस्वती साधना, उपासना के साथ ही यंत्र, तंत्र व विशेष मंत्रों की सिद्धि के श्रेष्ठतम काल कहे गए है। इनका उपयुक्त काल है अभिजीत, मध्यान्ह व महानिशा काल, अर्द्ध रात्रि में शुद्धता व पवित्रता से अपने इष्टदेव की साधना व माँ भगवती की कृपा से ही यह सम्भव है। गुप्त नवरात्रि में दुर्गासप्तशती व नवार्ण मंत्र साधना से भगवती की असीम कृपा प्राप्त होती है। चारों नवरात्र में घट स्थापना, सात्विक विचार, शुद्धता, पवित्रता, उपवास की प्रमुखता होती है।

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरों की अपडेट Whats app ग्रुप और Telegram ग्रुप पर पाए, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी का अलर्ट हमारे, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

Deepak Bharti

मैं दीपक भारती thetadkanews.com हिन्दी News वेब पोर्टल का Founder हूं, BA और MA in Mass Communication की पढ़ाई के बाद मैने साल 2008 में पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा। मैने शुरूआती दिनों में सांध्य दैनिक News Today, Agniban, Akshar Vishwa, Dainik Swadesh में रिपोर्टर और वर्तमान में Dainik Dabang Dunia में सनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहा हूं। मैने पत्रकारिता को एक मिशन के रूप में लिया है। बदलती दुनिया पत्रकारिता भी डिजिटल स्वरूप में आ गई हैं। मेरा यह प्रयास रहता है कि खबर जैसी है वैसी ही उसके पाठकों तक पहुंचना चाहिए। ताकि वह उसके हर पहलू को समझ सकें।
Back to top button
मृदुल मधोक यूट्यूब कैसे कमा रहे करोड़ो FASTag वालों के लिए खास खबर, अभी देखें सड़क पर दौड़ेगी jawa 350 bike, यह है कीमत मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन में गाये राम भजन

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.