उज्जैन तड़का

shri krishna janmashtami 2021-श्री कृष्ण इस उम्र में शिक्षा प्राप्त करने के लिए आए थे उज्जैन

64 दिनों तक श्री कृष्ण ने महर्षि सांदिपनी से ली थी शिक्षा

उज्जैन। श्री कृष्ण जन्माष्टमी (shri krishna janmashtam) के पावन पर्व पर हम आपको भगवान श्री कृष्ण का उज्जैन (Ujjain) से खास कनेक्शन बताएंगे। ये तो सभी जानते हैं कि भगवान कृष्ण ने उज्जैन में महर्षि सांदिपनी (Maharishi Sandipani) से शिक्षा प्राप्त की थी। लेकिन ये कोई नहीं जानता कि भगवान जब उज्जैन आए तब उनकी उम्र क्या थी? वे यहां कितने दिन रहे और क्या-क्या सीखा।

ऐसे ही कई सवालों के साथ जब हम सांदिपनी आश्रम पहुंचे तो वहां हमे पं. रूपम व्यास मिले। हमने पंडीत जी से तमाम प्रश्न किए जो हमारे मन में चल रहे थे। इन सब सवालों के जवाब हमें दिए पं. रूपम व्यास ने दिए। पं. व्यास महर्षि सांदिपनी के ही वंशज हैं। वे सांदिपनी की 202 वीं पीढ़ी के प्रतिनिधि हैं। महर्षि सांदिपनी की व्यास पीठ जहां वे बैठा करते थे तब से अब तक उन्हीं के वंशज पीढ़ी दर पीढ़ी संभाल रहे हैं।

पं. व्यास ने कहा सांदिपनी आश्रम में जहां भगवान श्री कृष्ण की प्रतिमा है, यह वही जगह है, जहां उन्होंने गुरु सांदिपनी से शिक्षा प्राप्त की थी। भगवान जब यहां आए तब उनकी उम्र महज 11 वर्ष 7 दिन थी। पं. व्यास बताते हैं वह दिन कौन सा था, ये तो किसी को याद नहीं। लेकिन यहां आने के चार दिन पहले ही कृष्ण-बलराम का यज्ञोपवित संस्कार हुआ था। इतना ही नहीं यहां आने के पहले वे अपने मामा कंस का वध भी कर चुके थे। वे यहां 64 दिनों तक ही रहे। इन 64 दिनों में उन्होंने 64 विद्याएं सीखीं। इन 64 दिनों में उन्होंने 16 दिन में 16 कलाएं, 4 दिन में 4 वेद, 6 दिन में 6 शास्त्र, 18 दिन में 18 पुराण, 20 दिन में गीता का ज्ञान प्राप्त किया था।

ये भी पढ़े  चरक अस्पताल में कौन बेच रहा है ऑक्सीजन वाले बेड

महर्षि सांदिपनी

काशी से आए थे महर्षि सांदिपनी

महर्षि सांदिपनी जी सभी विद्याओं को जानने वाले थे। काशी में पुत्रों की मृत्यु के बाद वे उज्जैन आकर बस गए थे। वे यहां आए तब अकाल पड़ा हुआ था। तब उन्होंने शिव की आराधना की और अकाल दूर करने की प्रार्थना भी की। तब भगवान शिव ने अकाल दूर करने के साथ यह भी कहा कि महर्षि सांदिपनी तुम यहां शिक्षा देने के लिए आश्रम खोलो। द्वापर युग में तुम्हारे पास दो छात्र आएंगे जो तुम्हें तुम्हारा मृत पुत्र जीवित अवस्था में भेंट देकर जाएंगे।

गुरु सांदिपनी से शिक्षा प्राप्त की

पुत्र को किया था जीवित

भगवान कृष्ण ने पुनर्जीवित करने की संजीवनी विद्या भी महर्षि सांदिपनी से ही सीखी थी। 64 दिन की शिक्षा पूरी हो जाने के बाद गुरु दक्षिण के रूप में भगवान ने सांदिपनी के सबसे छोटे बेटे दत्त का पार्थिव शरीर यमराज से लाकर संजीवनी विद्या से उसे जीवित किया था। श्री कृष्ण ने उसका नाम पुनर्दत्त रखा और उसकी मां सुश्रुषा को सौंप दिया।

बैठी हुई प्रतिमा

उज्जैन में ही है बैठी प्रतिमा

भगवान श्री कृष्ण चूंकि उज्जैन में शिक्षा प्राप्त करने आए थे, इसलिए उनकी बैठी हुई प्रतिमा ही बनाई गई है। इस तरह की प्रतिमा पूरे विश्व में केवल उज्जैन में ही है। बाकी जगहों पर या तो लड्?डू गोपाल स्वरूप है या बंशी बजाते हुए खड़ी प्रतिमा है। मंदिर परिसर में ही गोमती कुंड भी बना हुआ है, जहां भगवान पानी से अपनी स्लेट साफ किया करते थे। यहां उनके पैरों के निशान बने हुए हैं। उनके गुरु महर्षि सांदिपनी की व्यास गादी आज भी वहीं है। पढतें रहे thetadkanews.com  देखें खबरे हमारे यूट्यूब चेलन  the tadka news पर, जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरें, जुडिएं हमारे फेसबकु tadka news पेज से…

ये भी पढ़े  मामूली विवाद के बाद तिलकेश्वर कॉलोनी में युवक की हत्या

यह भी पढ़ें…

कॉलोनाइजर ने फर्जी हस्ताक्षर कर किया संपत्ति हड़पने का प्रयास

भेरूगढ़ जेल में विवाद, एक कैदी गंभीर घायल 

हरि फाटक ब्रिज के समीप अतिक्रमण पर चली प्रशासन की जेसीबी । 

शुरू होंगे स्पुतनिक वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन, जानिए वैक्सीन से जुडी हर जानकारी 

कांग्रेस नेता ने की 30 करोड से अधिक की चोरी, केस दर्ज 

PUBG 1.5 अपडेट-डाउनलोड करें APK फाइल+ओबीबी, फीचर्स, पैच 

ट्रक में छिपाकर ले जा रहे थे डेढ़ करोड़ से अधिक का गांजा 

पुर्व मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने कैलाश विजयवर्गीय को कहा रावण का अवतारी

महाकाल मंदिर में नेताशाही, आधे घंटे देरी से हुई भस्म आरती

प्रभार बदलते ही अपर आयुक्त ने भी बदला रूख…

शराब दुकानों के बाहर खड़े वाहन पर चोरों की नजर

शराबी ने डायल 100 के कांच फोड़े, आधा दर्जन धाराओ में केस दर्ज

उज्जैन पुलिस की इस कार्रवाई से टूट गई बदमाशों की कमर

कार्तिक मेला ग्राउंड में शुरू होगा मवेशी हाट

Video-मंडी निरीक्षक ने हम्माल से मांगी 8 हजार की रिश्वत, लोकायुक्त ने दबोचा

व्हाट्सऐप से डाउनलोड करे कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट 

शिप्रा नदी में नहीं थम रहा मौतों का सिलसिला

पढ़ते रहे thetadkanews.com देखें खबरे हमारे यूट्यूब चैनल The Tadka News पर जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड की खबरों की अपडेट Whats app ग्रुप और Telegram ग्रुप पर पाए, लेटेस्ट टेक्नोलॉजी, सरकारी योजनाएं, सरकारी नौकरी का अलर्ट हमारे, जुड़िये हमारे फेसबुक Tadka News पेज से…

Deepak Bharti

मैं दीपक भारती thetadkanews.com हिन्दी News वेब पोर्टल का Founder हूं, BA और MA in Mass Communication की पढ़ाई के बाद मैने साल 2008 में पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा। मैने शुरूआती दिनों में सांध्य दैनिक News Today, Agniban, Akshar Vishwa, Dainik Swadesh में रिपोर्टर और वर्तमान में Dainik Dabang Dunia में सनियर रिपोर्टर के रूप में काम कर रहा हूं। मैने पत्रकारिता को एक मिशन के रूप में लिया है। बदलती दुनिया पत्रकारिता भी डिजिटल स्वरूप में आ गई हैं। मेरा यह प्रयास रहता है कि खबर जैसी है वैसी ही उसके पाठकों तक पहुंचना चाहिए। ताकि वह उसके हर पहलू को समझ सकें।
Back to top button
मृदुल मधोक यूट्यूब कैसे कमा रहे करोड़ो FASTag वालों के लिए खास खबर, अभी देखें सड़क पर दौड़ेगी jawa 350 bike, यह है कीमत मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने उज्जैन में गाये राम भजन

Adblock Detected

Please uninstall adblocker from your browser.